hindi story- hindi manthan- soch soch ka fark
Hindi Stories

सोच-सोच का फर्क | Difference of Thinking

सोच-सोच का फर्क- Hindi Story दोपहर का समय था, एक साधु अपने कुछ शिष्यों के साथ नदी के किनारे बैठे हुए उपदेश दे रहे थे, तभी उनके पास एक राहगीर आया | उसने साधू को प्रणाम किया और बोला, महात्मन मैं इस स्थान पर नया हूँ और निवास की इच्छा से यहाँ आया हूँ, परन्तु […]